Gusl Ka Tarika


जिन चीज़ों से ग़ुस्ल फ़र्ज़ हो जाता है वह पांच हैं –

  • मनी का अपनी जगह से शह्वत के साथ जुदा होकर निकलना
  • एहतेलाम यानी सोते में मनी निकल जाना
  • ज़कर के सर का औरत के आगे या पीछे या मर्द के पीछे दाख़िल होना दोनों पर ग़ुस्ल फ़र्ज़ कर देता है
  • हेज़ का खत्म होना
  • निफ़ास से फ़ारिग़ होना । ( आलमगीरी जि . 1 स . 15 मिसी )

मसला : – जुमा , ईद , बक़र ईद , अ़रफ़ा के दिन और एहराम बांधते वक्त ग़ुस्ल कर लेना सुन्नत है । ( आलमगीरी जि .1 स . 15 )

मसलाः – मैदाने अ़रफ़ात और मुज़दलफ़ा में ठहरने और हरमे कअ़बा और रौज़ए मुनव्वरा की हाजिरी , तवाफे कअबा , मिना में दाखिल होने , जमरों को कंकरियां मारने के लिए ग़ुस्ल कर लेना मुस्तहब है । इसी तरह शबे क़द्र , शबे बराअत , अरफ़ा की रात में , मुर्दा नहलाने के बाद , जुनून और गशी से होश में आने के बाद , नया कपड़ा पहनने के लिए , सफ़र से आने के बाद , इस्तिहाजा बन्द होने के बाद गुनाह से तौबा करने के लिए , नमाजे इस्तिस्का के लिए , ग्रहन के वक्त नमाज़ के लिए , ख़ौफ , तारीकी , आंधी के वक्त इन सब सूरतों में ग़ुस्ल कर लेना मुस्तहब है । ( दुरै मुख्तार जि . 1स , 114 वगैरह )

मसला : – जिस पर ग़ुस्ल फ़र्ज़ हो उसको बगैर नहाये मस्जिद में जाना , तवाफ़ करना , क़ुरआन मजीद का छूना , क़ुरआन शरीफ पढ़ना , किसी आयत को लिखना हराम है । और फ़िक़िह व हदीस और दूसरी दीनी किताबों का छूना मकरूह है । मगर आयत की जगहों पर इन किताबों में भी हाथ लगाना हराम है । ( दुरै मुख्तार , रडुलमुहतार )

मसला : – दुरूद शरीफ़ और दुआ़ओं के पढ़ने में हरज नहीं मगर बेहतर यह है कि वुज़ू या कुल्ली करे । ( बहारे शरीअत ) । मसला : – ग़ुस्ल ख़ाना के अन्दर अगरचे छत न हो नंगे बदन नहाने में कोई हरज नहीं । हां औरतों को बहुत ज्यादा इहतियात की जरूरत है । मगर नंगे नहाये तो क़िबला की तरफ मुंह न करे । और अगर तहबन्द बांधे हुए हो तो नहाते वक्त क़िबला की तरफ मुंह करने में कोई हरज नहीं ।

मसलाः – औरतों को बैठ कर नहाना बेहतर है । मर्द खड़े होकर नहाए या बैठ कर दोनों सूरतों में कुछ हरज नहीं ।

मसलाः – ग़ुस्ल के बाद फौरन कपड़े पहन ले देर तक नंगे बदन न रहे ।

मसला : – जिस तरह मर्दों को मर्दों के सामने सत्र खोल कर नहाना हराम है उसी तरह औरतों को भी औरतों के सामने सत्र खोल कर नहाना जाइज नहीं । क्योंकि दूसरों के सामने बिला जरूरत सत्र खोलना हराम है । ( आम्मए कुतुबे फिकह )

मसला : – जिस पर गुस्ल वाजिब है उसे चाहिए कि नहाने में देर न करे बल्कि जल्द से जल्द गुस्ल करले क्योंकि हदीस शरीफ में है जिस घर में जुनुब यानी ऐसा आदमी हो जिस पर गुस्ल फर्ज है उस घर में रहमत के फरिश्ते नहीं आते । और गुस्ल करने में इतनी देर कर चुका कि नमाज़ का वक्त आ गया तो अब फौरन नहाना फर्ज है । अब देर करेगा तो गुनहगार होगा । ( बहारे शरीअत जि . 2 स . 42 )

मसलाः – जिस शख्स पर गुस्ल फर्ज है अगर वह खाना खाना चाहता है या औरत से जिमाअ करना चाहता है तो उसको चाहिए कि वुजू करले या कम से कम हाथ मुंह धो ले और कुल्ली करे और अगर वैसे ही खा पी लिया तो गुनाह नहीं मगर मकरूह है । और मोहताजी लाता है और बे नहाये या बे वुजू किये जिमाअ कर लिया तो भी कुछ गुनाह नहीं मगर जिस शख्स को एहतेलाम हुआ हो उसको बे नहाये हुए औरत के पास नहीं जाना चाहिए । ( बहारे शरीअत जि . 2 स . 42 )

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s